विनिर्माण उद्योग कक्षा 10। Vinirman udhyog class 10th Full chapter Notes,Question and Answare

Table of Contents

1.विनिर्माण क्या है?

मशीनों द्वारा बड़ी मात्रा में कच्चे माल से अधिक मूल्यवान वस्तुओं के उत्पादन को विनिर्माण कहते हैं।

उद्योग क्या है?

विनिर्माण का विस्तृत रूप उद्योग कहलाता है।

आधारभूत उद्योग क्या है?

ऐसे उद्योग जो दूसरे उद्योगों के लिए अपने तैयार माल को कच्चे माल के रूप में आपूर्ति में करते हैं जैसे लोहा, इस्पात उद्योग।

कृषि आधारित उद्योग क्या है?

कृषि उत्पादों को औद्योगिक उत्पाद में बदलने वाले उद्योग को कृषि आधारित उद्योग कहते हैं।

कुटीर उद्योग क्या है?

परिवार के द्वारा अपने घर में चलाए जाने वाले उद्योगों को कुटीर उद्योग कहते हैं। जैसे खादी, हस्तकला आदि।

लघु उद्योग क्या है?

वे उधोग जिन्हें अल्प पूँजी और थोड़े श्रमिकों द्वारा चलाया जाता है।

भारी उधोग क्या है?

वे उद्योग जो भारी और अधिक स्थान घेरने वाले कच्चे माल का प्रयोग करते हैं जैसे लोहा और इस्पात उद्योग, चीनी उधोग आदि।

निजी क्षेत्र के उद्योग क्या है?

किसी एक व्यक्तियों के समूह द्वारा संचालित किया जाता हैं, उसी निजी उधोग कहते है।

सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग क्या है?

सरकार के स्वामित्व और प्रत्यक्ष नियंत्रण वाले उद्योगों को सार्वजनिक उद्योग क्षेत्र कहते हैं जैसे सेल, भेल, गेल।

संयुक्त उद्योग क्या है?

जो उद्योग राज्य सरकार और निजी क्षेत्रों के संयुक्त प्रयास से चलाए जाते हैं, उन्हें संयुक्त उद्योग कहते हैं। जैसे इंडियन आयल लिमिटेड आदि।

सहकारी उधोग क्या है?

जिनका स्वामित्व कच्चे माल की पूर्ति करने वाले उत्पादकों,श्रमिकों या दोनों के हाथ में होता है। लाभ हानि का विभाजन भी अनुपातिक होता है। जैसे केरल का नारियल उद्योग और महाराष्ट्र का चीनी उद्योग।

विदेशी विनिमय क्या है।

एक देश की मुद्रा को दूसरे देश की मुद्रा में बदलने की प्रक्रिया को विदेशी विनिमय कहते हैं।

विदेशी मुद्रा क्या है?

मुद्रा का वह माध्यम जिसके द्वारा सरकार दूसरे देश से वस्तुएं खरीद थी वह भेजती है, उसे विदेशी मुद्रा कहते हैं।

खनिज आधारित उद्योग क्या है?

जो दो कच्चे माल के रूप में खनिजों का उपयोग करते हैं। जैसे सिलाई मशीन सीमेंट उद्योग लोहा एवं इस्पात उद्योग आदि।

औद्योगिक रुग्णता (बीमार उद्योग) क्या है?

उर्दू की हानि यदि लोगों का बंद होना औद्योगिक रुग्णता होता है।

विनिर्माण उद्योगों का महत्व क्या हैं।

1.कृषि का आधुनिकीकरण।
2.माध्यमिक और तृतीय क्षेत्रों में रोजगार प्रदान करना।
3. क्षेत्रीय विषमताओं को कम करना।
4.बेरोजगारी का उन्मूलन।
5. निर्मित वस्तुओं का निर्यात।

औद्योगिक अवस्थिति के कारक क्या है?

कच्चा माल
उर्जा
श्रम
बाजार
परिवहन
पूंजी

उद्योगों के वर्गीकरण के आधार पर उद्योगों को कितने भागों में बांटा गया है?

1.उपयोग किए गए कच्चे माल के आधार पर।

१. कृषि आधारित उद्योग जैसे कपास, जुट, चीनी उद्योग आदि।
२. खनिज आधारित उद्योग जैसे लोहा तथा इस्पात उद्योग, सीमेंट उद्योग आदि।

2. मुख्य भूमिका के अनुसार।

१. आधारभूत या प्रमुख उद्योग उदाहरण के लिए लोहा इस्पात उद्योग, तांबा प्रगलन, एलमुनियम प्रगलन आदि।
२. उपभोक्ता उद्योग जैसे पेपर उद्योग, पंखा उद्योग आदि।

3. स्वामित्व के आधार पर उद्योग।

१. सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योग जैसे भेलBhail, सेल sail आदि।
२. निजी क्षेत्र के उद्योग जैसे टिसको, बजाज ऑटो लिमिटेड।
३. संयुक्त क्षेत्र के उद्योग उदाहरण के लिए इंडियन ऑयल लिमिटेड।
४ सहकारी क्षेत्र के उद्योग जैसे महाराष्ट्र में चीनी। उद्योग, केरल में नारियल उद्योग।

आइए अब हम बात करते है औद्योगिक प्रदूषण और पर्यावरणीय प्रदूषण के बारे में।

वायु प्रदूषण

1. उद्योगों द्वारा सल्फर डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड का उत्सर्जन।
2. रासायनिक और पेपर उद्योग, ईट भट्टे तथा रिफाइनरी द्वारा धुआं निकलना।

जल प्रदूषण

1.औद्योगिक कचरे (कार्बनिक तथा अकार्बनिक) द्वारा प्रदूषण
2.पेपर रसायनिक, वस्त्र उद्योग तथा उद्योगों का प्रदूषण।

तापीय प्रदूषण

1. कारखाने और ताप संयंत्र द्वारा गर्म जल का नदी में गिरना।

ध्वनि प्रदूषण

1.सुनने की क्षमता प्रभावित होती है हृदय गति तथा रक्तचाप बढ़ जाता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!